कुंडली देख कर आप भी जान सकते - कहां और कितनी दूर में शादी होगी!


ज्योतिषशास्त्र में इस बात को लेकर एक आकलन किया गया है जिससे आप खुद जान सकते हैं कि शादी कहां और घर से कितनी दूर होगी. विवाह को लेकर हर किसी में यह जानने की इच्छा होती है कि उसकी शादी कहां, किससे और घर से कितनी दूर में होगी. शादी गांव में होगी या शहर में. ऐसी छोटी-छोटी इच्छाएं हर किसी के मन उठती हैं. 1 : घर के आसपास होगा विवाह ज्योतिषशास्त्र के अनुसार, आपकी कुंडली के सप्तम भाव यानी विवाह के घर वृष, सिंह वृश्चिक और कुंभ राशि स्थित है तो शादी आपके घर से 90 किलोमीटर के अंदर ही होगी. अगर सप्तम भाव में चंद्र, शुक्र तथा गुरु हों तो ऐसे में लड़की की शादी घर के आसपास ही होती है. 2 : 100 किमी की दूरी पर विवाह अगर कुंडली के सप्तम भाव में मेष, कर्क, तुला और मकर है तो आपका विवाह जन्मस्थान से 200 किमी के अंदर होगा. वहीं अगर द्विस्वभाव राशि मिथुन, कन्या, धनु या फिर मीन स्थित है तो शादी घर से 80 से 100 किमी की दूरी पर होती है. 3 : विदेश में होगा निवास विवाह स्थान यानी सप्तम भाव का स्वामी जिसे सप्तमेश कहा जाता है वह अगर आपकी कुंडली में सप्तम भाव से द्वादश भाव के मध्य हो तो आपका विवाह विदेश में हो सकता है. कन्या के मामले में ऐसा भी हो सकता है कि शादी के बाद आपको पति विदेश ले जाए. लड़की की कुंडली में दसवां भाव उसके पति का भाव होता है. दशम भाव अगर शुभ ग्रहों से युक्त या दृष्ट हो या दशमेश से युक्त या दृष्ट हो तो पति का अपना मकान होता है. 4 : कब होगी शादी? कुंडली में सप्तम भाव में सप्तमेश बुध हो, वह पाप ग्रह (राहु,केतु, मंगल, शनि) से दृष्ट या उनके साथ नहीं हो तो ऐसे में विवाह 13 से 18 साल की आयु में हो जाती है. आज के समय के हिसाब से बात करें तो 22 वर्ष तक शादी होने की प्रबल संभावना रहती है. अगर सप्तम भाव में सप्तमेश मंगल पाप ग्रह से प्रभावित हों तो शादी 18 साल की आयु में हो जाती है. 5 : 27 की उम्र में होती है शादी बुध शीघ्र ही शादी करवाता है, अगर आपकी कुंडली के सातवें घर में बुध हो तो आपकी शादी का योग 20 से 25 साल की उम्र में होती है. यदि राहु या शनि का प्रभाव हो तो दो साल की देर यानी 27 साल की उम्र में शादी होती है. 6 : इनका विवाह में आती है परेशानी मंगल, राहु और केतु में से कोई एक यदि सातवें घर में हो तो शादी में काफी देर हो सकती है. जितने अशुभ ग्रह सातवें घर में होंगे शादी में देर उतनी ही अधिक होती है. मंगल कुंडली के सातवें घर में 27 साल की उम्र से पहले शादी नहीं होने देता. वहीं राहु यहां होने पर विवाह आसानी से नहीं होने देता. कई बार तो बात पक्की होने के बावजूद रिश्ते टूट जाते हैं. केतु सातवें घर में होने पर गुप्त शत्रुओं की वजह से शादी में अडचनें पैदा होती हैं.

Back to previous page

2018-07-05Total Comments :

Similar Post You May Like