रोज तीन पहाड़ चढ़कर बस्ती के गरीबों को खाना-पानी देते हैं 5500 करोड़ के मालिक सवजीभाई


गुजरात और मध्यप्रदेश की सीमा से सटे महाराष्ट्र के तीनसमाल गांव के लोगों की मदद के लिए सूरत के हीरा कारोबारी सवजीभाई धोलकिया आगे आए हैं. 5,500 करोड़ रु. टर्नओवर वाली हीरा कंपनी के मालिक सवजीभाई पिछले दिनों एक अखबार में खबर पढ़कर चार किमी पैदल चल और तीन पहाड़ चढ़कर तीनसमाल पहुंचे. रातभर रुककर परेशानियां समझीं. सवजीभाई ने कहा, अखबार ने जो लिखा, शब्दश: सत्य है. उन्होंने ग्रामीणों को वाटर फिल्टर दिए. 30 युवकों को नौकरी, उनके मकान-भोजन, शादी और गांव में बिजली, पानी, सड़क समेत अन्य सुविधाएं देने का वादा किया. लोगों के लिए: स्वास्थ्य किट के साथ 10 जोड़ी बैल और अन्य दुधारू पशु देंगे. छोटे-मोटे व्यवसाय कर जीविका चलाने के लिए प्रशिक्षण.महिलाओं के लिए: गृह उद्योग चलाने के लिए हरसंभव सुविधाएं. जो उत्पाद तैयार होगा, उसकी मार्केटिंग सूरत के लोग करेंगे. बच्चों के लिए: स्कूल में स्वच्छ पानी, किताबें, स्कूल बैग, स्टेशनरी, फीस समेत सभी सुविधाएं. गांव के चारों हिस्सों में सोलर स्ट्रीट लाइट भी. 601 की आबादी वाले तीनसमाल में न बिजली है, न ही सड़क. पीने के पानी के लिए 300 मीटर खाई में उतरना पड़ता है. कोई बीमार हुआ तो उसे बांस की झोली में 17 किमी दूर लाना पड़ता है. विषम हालात के कारण युवक -युवतियों की शादी भी नहीं हो रही. दो दशक से लोग पुनर्वास का इंतजार कर रहे हैं. सावजीभाई शून्‍य से शिखर पर पहुंचने वाले व्‍यक्ति का एक जीवंत उदाहरण हैं. वें गुजरात के अमरेली जिले के डुढाला गांव के रहने वाले हैं. 1977 में वह अपने गांव से सिर्फ 12.5 रुपए लेकर सूरत के लिए निकले थे. यह रुपए भी उनके बस का किराया चुकाने में खत्‍म हो गए थे. यहां उन्‍होंने हीरे और कपड़े के निर्यात का कारोबार शुरू किया, जो आज एक जानामाना नाम है. हरि कृष्‍णा एक्‍सपोर्ट का सालाना टर्नओवर 5500 करोड़ रुपए है और यह कंपनी डायमंड और टेक्‍सटाइल सेगमेंट में काम करती है. यह कंपनी अपने उच्‍च आदर्श मानकों, उत्‍कृष्‍टता, बेहतर गुणवत्‍ता और पारदर्शी कारोबार के लिए जानी जाती है. कंपनी डीटीसी, रियो टिंटो, डीडीसी और एआई रोसा से कच्‍चा हीरा प्राप्‍त करती है. कंपनी के पास तकरीबन 5500 कर्मचारी हैं. सवजीभाई हर साल दिवाली बोनस में अपने कर्मचारियों को फ्लैट, कार, स्‍कूटर और ज्‍वैलरी बॉक्‍स देने के लिए मशहूर हैं. पिछले साल उन्होंने अपने सभी कर्मचारियों को बोनस में कारें बांटी थी.

Back to previous page

2018-07-05Total Comments :

Similar Post You May Like